सपना आया अगर एक की बलि दोगे तो बेटा ठीक हो जाएगा, फिर मां ने उठाया खौफनाक कदम

 

नई दिल्ली । राजस्थान के कोटा जिले के अंता इलाके में कलयुगी मां ने अपने बेटे को जीवन देने की चाह में अपनी ही बेटी की जान ले ली। आरोपी मां ने अपनी 12 वर्षीय बेटी का गला घोंटकर उसको मौत के घाट उतार दिया। पुछताछ के दौरान आरोपी महिला रेखा हाड़ा ने चैकाने वाले खुलासे किए, जिसको सुनकर पुलिस भी स्तब्ध रह गई।
आरोपी महिला ने पुलिस को बताया कि उसको सपना आता था कि बडे बेटे को बचाना है तो किसी एक की बलि देनी होगी। इसके बाद महिला ने वारदात को अंजाम दे दिया। डीएसपी तरूण कांत सोमानी ने बताया कि महिला द्वारा अपनी ही बेटी की हत्या करने की सूचना मिलने पर पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे थे। जिसके बाद पुलिस ने जांच शुरू की और संदिग्धता के आधार पर महिला रेखा से पुछताछ की तो सारा मामला आईने की तरह साफ हो गया। पुलिस ने बताया कि रेखा अपने पति और तीन बच्चों के साथ रहती है। आरोपी महिला का बडा बेटा निकेन्द्र है जिसके दिल में छेद होने की जानकारी मिली। साथ ही ये भी सामने आया कि आरोपी महिला अपने बडे बेटे से बहुत प्यार करती है। बेटे की तबियत को लेकर महिला काफी परेशान रहने लगी। ऐसे में उसको सपना आने लगा की एक की बलि दोगे तो बेटा ठीक हो जाएगा।
आरोपी महिला के पति शिवराज ने बताया कि पत्नी काफी दिनों से इतनी परेशान रहने लगी कि उसका मानसिक संतुलन भी बिगडऩे लगा था। ऐसे में कुछ दिन पहले महिला ने अपने पति शिवराज पर भी धारदार हथियार से हमला कर दिया था लेकिन समय रहते शिवराज की नींद खुलने से वो बच गया था। इसके बाद भी महिला के सिर पर अपने बेटे को बचाने के लिए किसी एक की बलि देने का भूत सवार हो गया था। बताया जा रहा है महिला ने अपनी 12 वर्षीय बेटी संजना और 7 वर्षीय छोटे बेटे सिंघम पर हमला किया था। लेकिन किसी तरह छोटा बेटा बच निकला लेकिन बेटी को महिला ने पकड़ लिया और गला घोंटकर उसकी हत्या कर दी।

mithlabra
Author: mithlabra

Leave a Comment