आप सरकार पर जमकर बरसी मीनाक्षी लेखी, कहा- सत्येंद्र जैन ने जेल के अंदर चला रखा है वसूली का धंधा

 

नई दिल्ली । भाजपा सांसद मीनाक्षी लेखी ने आम आदमी पार्टी पर खूब निशाने साधे है। भाजपा ने दिल्ली के उपराज्यपाल से दिल्ली की जेल में बंद मंत्री सत्येंद्र जैन को दिल्ली से बाहर की जेल में स्थानांतरित करने की मांग की है। उन्होंने तर्क दिया है कि भ्रष्टाचार को अंजाम देने की सारी सीमाएं दिल्ली के मुख्यमंत्री और मंत्री पार कर चुके हैं। पिछले आठ सालों में जो भी योजना बनी, वह भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गई। केंद्रीय राज्य मंत्री मीनाक्षी लेखी ने दिल्ली के उपराज्यपाल और मुख्यमंत्री से मांग की है कि जैन को किसी और जेल में ट्रांसफर किया जाए, जिससे गैर कानूनी ढंग से शुरु किए गए धंधे को रोका जा सके।
उन्होंने कहा कि केजरीवाल दूसरे राज्यों में जाकर दिल्ली की सच्चाई बताने की जगह झूठी प्रचार करते हैं। इस बात को बताने से बचते हैं कि दिल्ली में एक ऐसी सरकार चला रहे हैं, जिसका हर विभाग भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ा हुआ है। इतना ही नहीं दिल्ली में प्रचार के अलावा एक भी काम अगर केजरीवाल ने अपने आठ सालों के कार्यकाल में किया हो तो उसको भी बताएं। जैन उसी जेल में बंद हैं, जिसपर उनका अधिकार है और गैर कानूनी तरीके से अपनी मनमानी कर रहे हैं। वे जेल में भी वह फोन का इस्तेमाल कर रहे हैं। मीनाक्षी लेखी ने मीडिया से बातचीत में आगे कहा कि अगर महाठग सुकेश चंद्रशेखर से 10 करोड़ रुपये लिए हैं तो उसका जवाब केजरीवाल को देना चाहिए। केजरीवाल का दफ्तर भ्रष्टाचार युक्त और गवर्नेंस मुक्त है।
शनिवार को वकील के मार्फत जारी पत्र में सुकेश चंद्रशेखर ने दिल्ली के मुख्यमंत्री पर भी गंभीर आरोप लगाए। सुकेश का कहना है कि 2016 में केजरीवाल ने कर्नाटक और तमिलनाडु में सीट देने के एवज में 500 करोड़ रुपये की मांग की थी। इसके लिए 20-30 व्यक्तियों को लाने को कहा गया था। पत्र में दावा किया गया है कि मुख्यमंत्री ने 50 करोड़ लेकर उसे राज्यसभा भेजने का झांसा दिया था। असोला के एक फार्महाउस पर उसने सत्येंद्र जैन का रकम देने की बात भी कही है। महाठग कहने पर मुख्यमंत्री के खिलाफ मामला दर्ज कराने की बात भी सुकेश चंद्रशेखर ने कही है।
शनिवार को सुकेश का पत्र सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है। इससे पहले सुकेश चंद्रशेखर ने सात अक्टूबर को दिल्ली के उपराज्यपाल वीके सक्सेना को पत्र लिखकर तिहाड़ में बंद दिल्ली सरकार के मंत्री सत्येंद्र जैन पर 10 करोड़ रुपये व जेल के पूर्व महानिदेशक संदीप गोयल पर 12.5 करोड़ रुपये प्रोटेक्शन मनी लेने का आरोप लगाया था। चार नवंबर को ही संदीप गोयल को महानिदेशक के पद से तबादला कर दिया गया। माना जा रहा है कि सुकेश के पत्र सामने आने के बाद उन्हें पद से हटाया गया है। जिस दिन संदीप गोयल को पद से हटाया गया, उसी दिन सुकेश ने मीडिया को संबोधित करते हुए एक पत्र लिखा। उसने पत्र में आरोप लगाया कि उसने एक डिनर पार्टी की थी, जिसमें दिल्ली के मुख्यमंत्री, सत्येंद्र जैन के साथ शामिल हुए थे। मुख्यमंत्री के निर्देश पर उसने असोला के एक फार्महाउस में मंत्री सत्येंद्र जैन व कैलाश गहलोत को रकम दी।
कौन है सुकेश चंद्रशेखर
बेंगलुरु निवासी सुकेश कम उम्र में ही ठगी करनी शुरू कर दी थी। उसे पहली बार 17 वर्ष की उम्र में बेंगलुरु पुलिस ने पकड़ा था, उस समय उसने कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी के बेटे का दोस्त बनकर एक परिवार से एक करोड़ से अधिक की ठगी की थी। 32 वर्षीय सुकेश पर देशभर में 20 से ज्यादा मामले दर्ज हैं। वह चर्चा में वर्ष 2017 में आया, जब उसे अन्नाद्रमुक के शशिकला खेमे को दो पत्ती वाला चुनाव चिह्न दिलाने के नाम पर ठगी करने के मामले में गिरफ्तार किया गया था। दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा ने राजधानी में उसके कमरे से करीब सवा करोड़ रुपये नकद बरामद किया था। 2021 में सुकेश ने रेलिगेयर के प्रमोटर शिवेंद्र मोहन सिंह को जेल से बाहर निकालने को लेकर उसकी पत्नी से 200 करोड़ की ठगी की। आर्थिक अपराध शाखा और ईडी मामले की जांच कर रही है। इसमें बालीवुड अभिनेत्री जैक्लीन फर्नांडीज और नोरा फतेही भी आरोपित हैं। सुकेश के जेल से उगाही का रैकेट चलाने की बातें सामने आने के बीच यह भी पता चला कि तिहाड़ के 82 जेल अधिकारी व कर्मचारी उसे जेल में सुविधाएं मुहैया करा रहे थे, जिन्हें सुकेश प्रतिमाह डेढ़ करोड़ रुपये दे रहा था। उसके बाद आर्थिक अपराध शाखा ने जेल के 82 कर्मचारियों के खिलाफ सुबूत जुटाने के बाद मामला दर्ज किया है।

mithlabra
Author: mithlabra

Leave a Comment