कानों को अच्छे से साफ करने के लिए इस्तेमाल करें ये 5 सुरक्षित घरेलू नुस्खे

 

कान में अक्सर मोम जैसे पदार्थ का उत्पादन होता है जिसे ईयर वैक्स भी कहा जाता है। यह हमारे कानों के अंदर धूल और गंदगी को जाने से रोकता है, जिससे कान सुरक्षित रहते हैं। लेकिन ईयर वैक्स को बार-बार साफ करने की जरूरत होती है। ऐसा नहीं करने पर वैक्स एक जगह जम जाता है और इससे सुनने की क्षमता कम हो जाती है। आज हम आपको सुरक्षित तरीके से कान साफ करने के पांच घरेलू नुस्खे बताते हैं। नमक का पानीनमक का पानी आपके कान के अंदर जमा होने वाले वैक्स को नरम करने में मदद करता है, जिससे आप अपने कान को आसानी से साफ कर सकते हैं। इसके लिए गरम पानी और नमक को एक साथ मिलाएं और इसमें एक रुई भिगोकर कान के अंदर इसकी कुछ बूंदें डाल दें। करीब तीन-पांच मिनट तक रुकें और फिर अपने सिर को नीचे की तरफ झुका दें। अब नरम वैक्स को धीरे से ईयरबड्स से साफ करें। जैतून का तेलकानों की सफाई के लिए जैतून का तेल एक बढिय़ा घरेलू नुस्खा है। यह आपके कान को संक्रमणों से बचाता है। एंटी-सेप्टिक गुणों से भरपूर जैतून का तेल कान में इक_ा मैल को आसानी से निकालने में आपकी मदद करता है। इसके लिए कान में जैतून के गरम तेल की तीन-चार बूंदें डालें और इसे 10 मिनट के लिए छोड़ दें। इसके बाद अपने सिर को झुका लें और तेल और वैक्स को हटाने के लिए ईयरबड का इस्तेमाल करें। बेकिंग सोडाबेकिंग सोडा बहुत ज्यादा सूखे या जमे हुए ईयर वैक्स को नरम करने में अत्यधिक असरदार है। कानों के लिए बेकिंग सोडा का इस्तेमाल सुरक्षित है और यह आपके कान के संक्रमण को भी रोकता है। इसके लिए पानी की कुछ बूंदों में बेकिंग सोडा घोलें और ड्रॉपर की मदद से इसे अपने कान में डाल दें। थोड़ी देर बाद अपने कानों को एक मुलायम सूती कपड़े या ईयरबड से साफ करें। इससे आपका कान बिल्कुल साफ हो जाएगा। सिरका और रबिंग अल्कोहलकान के वैक्स या मैल को हटाने के लिए रबिंग अल्कोहल एक पुराना नुस्खा है। रबिंग अल्कोहल और सिरके का घोल बैक्टीरिया से लड़ता है और कान के संक्रमण को रोकता है। सबसे पहले सिरका और रबिंग अल्कोहल को एक साथ मिलाएं और एक कॉटन बॉल को घोल में भिगो दें। इसके बाद घोल की दो-तीन बूंदों को अपने कान में डाल दें और पांच मिनट के बाद मैल को हटाने के लिए अपने सिर को नीचे की तरफ झुकाएं। सेब का सिरकासेब के सिरके में मौजूद एंटी-फंगल और जीवाणुरोधी गुण कान के अंदर हानिकारक छोटे जीवों को मारने में मदद करते हैं और गंभीर संक्रमणों को रोकते हैं। इसके लिए सबसे पहले सेब के सिरके को गुनगुने पानी में मिलाएं और फिर ईयर ड्रॉपर की मदद से कान में इसकी 5’0 बूंदें डालें। करीब पांच मिनट तक बूंदों को कान के अंदर छोडऩे के बाद कानों को ईयरबड से साफ कर लें।

mithlabra
Author: mithlabra

Leave a Comment