मां की ममता और पिता की क्षमता का कोई मोल नहीं- राष्ट्रसंत ललितप्रभजी

 

संतों को सुनने के लिए बांधा तालाब में उमड़ा श्रद्धालुओं का हुजूम

दुर्ग । राष्ट्रसंत श्री ललित प्रभ जी महाराज साहब ने कहा कि आनंद और खुशियां जिंदगी की सबसे बड़ी दौलत है। यह दौलत किसी किस्मत वाले को मिलती है। तिजोरी की दौलत तो हर किसी को मिल जाती है पर ये खुशियोंभरी जिंदगी की दौलत किसी-किसी को नसीब होती है। हर आदमी को अपने जीवन में अच्छे स्वभाव, अच्छी सोच का मालिक होना ही चाहिए। क्योंकि यही वे सद्गुण हैं जो आदमी के वर्तमान को भी उज्जवल बनाते हैं और उसके भविष्य को भी तय करते हैं। तय है- जैसा आदमी का नेचर होता है, वैसा ही आदमी का फ्यूचर होता है। यह जिंदगी अच्छे रंग के साथ नहीं अच्छे ढंग से जी जानी चाहिए। अच्छे नेचर का मालिक बनना चाहते हो तो अपने स्वभाव में पलने वाले गुस्से को गुड बाय कर दो।’’
संत प्रवर सोमवार को बांधा तालाब में श्री जैन श्वेतांबर मूर्तिपूजक संघ द्वारा आयोजित तीन दिवसीय प्रवचन माला के समापन पर हजारों लोगों को संबोधित कर रहे थे। संतप्रवर ने कहा कि लोगों के साथ हमारे रिश्ते कैसे रहेंगे, ये भी हमारा स्वभाव और व्यवहार तय करता है। क्योंकि जैसा होता है आदमी का स्वभाव, वैसा ही पड़ता है दूसरों पर प्रभाव। अगर आपको लगता है कि आपका चेहरा सुंदर नहीं है तो कोई दिक्कत नहीं, अपने स्वभाव को सुंदर बना लो। क्योंकि आपका स्वभाव सुंदर बन गया तो आप लोगों के दिलों में राज करोगे। सुंदर चेहरा दो दिन अच्छा लगता है। ज्यादा धन दो महीने अच्छा लगता है पर आदमी का सुंदर स्वभाव ये दूसरों को जिंदगीभर अच्छा लगता है। जिंदगी यदि हमें आनंद से जीनी है, तो यह आत्मनिरीक्षण कर लें कि क्या मैं जिंदगी में छोटीे-छोटी बातों में क्रोध और कसाय में घिर जाता हूं, क्या मैं किसी के दो टेढ़े शब्द कहने पर अपने-आपको अपमानित महसूस कर ल क्षमा कर देता हूं।
संतप्रवर ने कहा कि आदमी का शरीर एक दिन मिट्टी में मिल जाता है, यानि यह शरीर भी मिट्टी हैं और सोना-चांदी, हीरा ये मिट्टी के ही कलेवर हैं तो फिर मिट्टी को मिट्टी से सजाने के लिए काहे के लिए इतनी माथाफोड़ी करते हो। इसी का नाम तो मिथ्यात्व है, इसी का नाम संसार है, इसी का नाम दुनिया में फंसना है। अनगढ़े पत्थर को भी जब तराशकर प्रतिमा बनाया जा सकता है, जब पत्थर में से भी प्रतिमा को प्रकट किया जा सकता है, मूर्ति तो पत्थर के अंदर है, आजू-बाजू का कचरा हटाओ तो मूर्ति अपनेआप बाहर निकलकर आ जाती है। ऐसे ही आदमी का अच्छा नेचर होता है, जो बाहर से डाला नहीं जाता, फालतू का कचरा जो आपने भीतर में इक्ट्ठा कर रखा है उसे हटा दो तो आपको लगेगा कि मैं कितना बढ़िया क्वालिटी का इंसान बन गया। जब पत्थर में से प्रतिमा को प्रकट किया जा सकता है तो आदमी को क्यों नहीं सुधारा जा सकता।

तीन सांस की है जिंदगी

संतप्रवर ने आगे कहा कि जब हम दुनिया में आते हैं तो केवल तीन सांसों की जिंदगी लेकर आते हैं। लेकिन फिर भी इस छोटी-सी जिंदगी में वह न जाने कितने कलह के साधन अपने मन में पैदा कर लेता है। केवल तीन सांस की जिंदगी है। पहली सांस है जन्म की। दूसरी सांस लेता है जवान की। तीसरी होती है बुढ़ापे की। एक चैथी सांस और होती है, जिसे चैथी सांस नहीं अंतिम सांस कहते हैं।
अच्छे नेचर के लिए जीवन से
इन पांच को कर दो डिलिट
संतप्रवर ने कहा कि अच्छे नेचर का मालिक बनने और जिंदगी को स्वर्ग सरीखे आनंद और मिठासभरी बनना चाहते हो तो अपने जीवन से इन पांच दोषों को हमेशा के लिए डिलिट कर दो। वे हैं- स्वभाव में पलने वाला गुस्सा, भीतर में पलने वाला अहंकार-अभिमान या ईगो, छल-प्रपंच या माया, लोभ और ईष्र्या। अपने गुस्से को जीवन से हटाने के लिए भीतर में पे्रम और क्षमा को सेव कर लो। अभिमान को हटाने विनम्रता को अपना लो। माया को हटाने मित्रता को अपना लो। लोभ को हटाने संतोष को अपना लो। संतोष से बड़ा सुख और धन दुनिया में और कुछ होता नहीं है। ईष्र्या को हटाने सबको अपना मान लो। औरों की खुशी में खुश होना और औरों के दुख को बांटना सीख लो।

संतश्री ने कहा कि अपने जीवन से क्रोध, मान, माया, लोभ आदि कसायों को दूर करने के लिए तीन गुणों को अपना लें। पहला अपने दिल को बड़ा रखें, दूसरा अपने दिमाग को हमेशा ठंडा रखें और तीसरा अपनी जुबान को हमेशा मीठी बनाए रखें। जिसके पास इन सद्गुणों की दौलत है दुनिया में उससे ज्यादा सुखी-उससे बड़ा धनवान और कोई नहीं।

चेहरे की खुशी और मन की प्रसन्नता से बड़ी
और कोई दौलत नहींः डॉ. मुनि शांतिप्रियजी

दिव्य सत्संग के पूर्वार्ध में डॉ. मुनिश्री शांतिप्रिय सागरजी ने कहा कि जीवन में स्वस्थ रहने के लिए जितनी जरूरत ध्यान, योग और प्राणायाम की होती है, उतनी ही जहरूरत हंसी और खुशी की भी हुआ करती है। अक्सर आदमी बाहर से कम, भीतर से ज्यादा बीमार होता है। अन्तरमन को जो प्रसन्न और खुश रखते हैं उन पर बीमारियां हावी नहीं होती। चिंता और तनाव को दूर करने की एक ही औषधि है हर हाल में आनंदित और प्रसन्न रहो। जीवन को खुशियों से भरकर जीने का राज यही है कि आप परेशानियों को हाथ में लेकर ढोना छोड़ दो, परेशानियों के बोझ को भीतर से बाहर निकालकर फेंक दो। अन्तरमन की खुशियां परमानेंट होती हैं। स्वयं खुश रहो और दूसरों को खुशियां बांटते रहो। जो हर सुबह एक मिनट मुस्कुरा लेता है, उसके जीवन में कभी हार्ट अटैक की नौबत नहीं आती। इस अवसर पर साध्वी जिन वर्षा श्री ने भी सभा को संबोधित किया।
आज धर्म सभा में सभा मंडप प्रदान करने के लिए श्रमण संघ परिवार के सदस्यों का भी अभिनंदन किया गया जिनमें निर्मल बाफना प्रवीण श्रीश्रीमाल सुरेश श्रीश्रीमाल टीकम छाजेड़ प्रमुख थे धर्म सभा का संचालन मनीष दुग्गड ने किया।

राष्ट्रसंत ने किया राजनांदगांव की ओर विहार – संत प्रवर मैत्री डेंटल कॉलेज होते हुए 22 नवंबर शाम 5 बजे सनसिटी राजनांदगांव में मंगल प्रवेश करेंगे जहां उनके रात्रि 8:00 प्रवचन आयोजित होंगे।

mithlabra
Author: mithlabra

Leave a Comment