महादेव बुक की 190 नम्बर: 6 आरोपी गिरफ्तार, एक दिन में कर रहे 6-8 लाख रुपए

भिलाई। दुर्ग पुलिस ने मध्य प्रदेश के बालाघाट से 190 नंबर महादेव बुक की ब्रांच को ध्वस्त किया है। पुलिस ने 6 आरोपियों को गिरफ्तार कर इनके पास से 3 नग लैपटॉप, 14 नग मोबाइल व एटीएम कार्ड भी बरामद किया है। वही इनके पास से पुलिस को कुछ बहीखाता मिले हैं, जिससे पता चला है कि एक ब्रांच से एक दिन में ये लोग 6-8 लाख रुपए की कमाई करते थे।
पत्रकार वार्ता के दौरान एसपी डॉ. अभिषेक पल्लव ने बताया कि महादेव पर जांच के दौरान उन्हें पता चला कि भिलाई के खुर्सीपार निवासी आशीष मेहरा (30 साल), आकाश यादव (22 साल), संदीप चौधीरी (28 साल), कैलाश नगर निवासी मो. इमरान (32 साल) जलेबी चौक छावनी निवासी विनय कुमार (33 साल) और छावनी निवासी धर्मेंद्र वर्मा (22 साल) पिछले कुछ दिनों से गायब है।
पुलिस ने जब इनकी कॉल डिटेल निकाली तो पता चला कि इनका संबंध शारदा निवासी भीम से है। भीम महादेव पैनल चालने और फर्जी खाता खुलवाने के मामले मास्टर माइंड है।
पुलिस ने कॉल डिटेल के आधार पर सभी लड़कों का लोकेशन निकाला तो उनका लोकेशन मध्य प्रदेश के वारासिवनी जिला बालाघाट का आया। एक जगह पर लोकेश मिलने पुलिस का शक पुख्ता हो गया। दुर्ग एसपी ने एक टीम बनाकर बालाघाट भेजा।
पुलिस ने 31 दिसंबर की रात वहां पहुंचकर एक किराय के मकान में छापा मारा तो भीम सिहत सभी लोग रंगे हाथ महादेव बुक का काम करते गिरफ्तार हुए।
आरोपियों ने बताया कि भीम ने उन्हें 15 हजार रुपए महीने पर काम दिया था। उसने उन्हें बताया था कि उन्हें सिर्फ लैपटॉप पर मैसेज भेजना हैथ इससे वो लोग इस काम के लिए राजी हो गए। आरोपियों का यह भी कहना है कि पहले वो लोग 8-10 हजा र की नौकरी करते थे। 15 हजार रुपए मिलने से वह इसके लिए राजी हो गए, जो कि गलत था।
एक दिन में 6.56 लाख रुपए का मुनाफा
पुलिस ने जब आरोपियों के पास से जब्त बहीखाता को खंगाला तो पता चला कि महादेव की एक ब्रांच में एक दिन का मुनाफा 6-7 लाख रुपए था। 29 दिसंबर के खाता बही को चेक करने पर पता चला कि महादेव के खाते में 11.40 लाख रुपए आए और 4.84 हजार रुपए जीत का देना पड़ा। इससे पता चला कि एक दिन का एक ब्रांच का मुनाफा 6.56 हजार व उससे अधिक है।
बेरोजगारी के कारण बना सटोरिया.
पकड़े गए मोहम्मद इमरान पूछताछ के दौरान एसपी को बताया कि सिविक सेंटर में उसकी दुकान थी जो टूट गई हैं वह बेरोजगार हो गया घर परिवार चलाने के लिए उसने इस धंधे में शामिल हुआ उसने अभी बताया कि कर्ज बहुत हो गया था कर्ज चुकाने के लिए उसने धंधे में शामिल हुआl आयोजित पत्रकार वार्ता के दौरान एडिशनल एसपी संजय ध्रुव ,सीएसपी क्राइम नसर सिद्दीकी ,भिलाई नगर सीएसपी निखिल राकेजा, भट्टी थाना टीआई केके कुशवाहा साइबर यूनिट प्रभारी संतोष मिश्रा मौजूद थे l
इस कार्रवाई में एंटी क्राइम एवं साइबर यूनिट से सहायक उप निरीक्षक पूर्ण बहादुर ,चंद्रशेखर सोनी ,आरक्षक अनूप शर्मा ,समीम, जुगनू सिंह थाना भिलाई भट्टी से सहायक उपनिरीक्षक नागेंद्र बंछोर की सराहनीय भूमिका रही है l

mithlabra
Author: mithlabra

Leave a Comment