दरकते जोशीमठ में एक्शन, बड़े होटलों को गिराने की कार्रवाई शुरू; SC का सुनवाई से इनकार

जोशीमठ। उत्तराखंड के जोशीमठ में हालात बिगड़ते चले जा रहे हैं। भू-धंसाव के चलते तमाम घरों और होटलों में दरारें पड़ गई हैं। इन असुरक्षित हो चुके भवनों को गिराने का अभियान आज यानि मंगलवार से शुरू होगा। बताया जा रहा है कि सबसे पहले होटल मलारी इन और माउंट व्यू को गिराया जाएगा। इसके लिए मौके पर बुलडोजर पहुंच गया है। साथ ही प्रशासन ने एसडीआरएफ की टीम को तैनात किया गया है। बताया जा रहा है कि दोनों होटलों को एक्सपर्ट टीम की देखरेख में ध्वस्त किया जाएगा। होटल मलारी इन के मालिक ठाकुर सिंह राणा ने कहा है कि अगर जनहित में होटल को गिराया जा रहा है तो मैं सरकार और प्रशासन के साथ हूं। भले ही मेरे होटल में आंशिक दरारें ही क्यों न हों। लेकिन मुझे नोटिस दिया जाना चाहिए था और मूल्यांकन किया जाना चाहिए था। मैं मूल्यांकन के लिए आग्रह करता हूं, मैं छोड़ दूंगा। एसडीआरएफ के कमांडेंट मणिकांत मिश्रा ने कहा कि दो होटलों में से मलारी इन को आज चरणबद्ध तरीके से पहले तोड़ा जाएगा। सबसे पहले ऊपर के हिस्से को तोड़ा जाएगा। ऐसा इसलिए किया जा रहा है क्योंकि दोनों होटल झुक गए हैं और एक-दूसरे के बेहद करीब आ गए हैं। जोशीमठ में सोमवार को 68 और घरों में दरार देखी गयी, जिसके बाद जमीन धंसने से प्रभावित मकानों की संख्या 678 हो गयी है, जबकि 27 और परिवारों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया है। वहीं सुप्रीम कोर्ट ने जोशीमठ मामले पर तत्काल सुनवाई से इनकार कर दिया। जोशीमठ के मामले पर 16 जनवरी के लिए मामले को लिस्ट किया। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि हर केस की जल्द सुनवाई नहीं हो सकती। इन मामलों के लिए लोकतांत्रिक संस्थाएं हैं, जो काम कर रही हैं।

mithlabra
Author: mithlabra

Leave a Comment