ठगी का शिकार बनी महिलाओं का फूटा गुस्सा, कार्यालय में की तोडफ़ोड़

-होमग्रोन कॉर्पोरेशन का संचालक फरार,15 दिन में 35 सौ रुपए देने महिलाओं से जमा करवाए थे 25 सौ रुपए
दुर्ग। दुर्ग शहर में स्वरोजगार के आड़ में करीब 5 करोड़ से अधिक राशि का ठगी का बड़ा मामला प्रकाश में आया है। इंदिरा मार्केट स्थित प्रेम कॉपलेक्स के दूसरी मंजिल में संचालित ठग कंपनी होमग्रोन कॉर्पोरेशन ने महिलाओं को साढ़े तीन किलो मोती का माला पिरोने के एवज में 15 दिन में साढ़े तीन हजार रुपए देने का वादा किया था। जिसके लिए ठग कंपनी द्वारा महिलाओं से ढाई हजार रुपए सुरक्षा राशि जमा करवाई गई थी। कम राशि में आसानी से ज्यादा कमाई के ठग कंपनी के जाल में महिलाए फंस गई। इस कंपनी से करीब 1 हजार से अधिक महिलाओं के जुड़े होने का पता चला है। कंपनी से जुड़ी महिलाएं गुरुवार को कंपनी के इंदिरा मार्केट स्थित कार्यालय पहुंची, तो उन्हे कार्यालय में ताला लगा मिला। कंपनी के संचालक सानू कुमार का मोबाइल फोन भी स्वीच ऑफ मिला। जिसके बाद महिलाओं को समझते देर नहीं लगी कि वे बड़े ठगी का शिकार हो गए। यह खबर शहर में आग की तरह फैली। जिससे कंपनी से जुड़ी अन्य महिलाएं और उनके परिवार के सदस्य भी मौके पर पहुंचे और कंपनी के खिलाफ जमकर हंगामा मचाया। इस दौरान महिलाओं का कंपनी संचालक के खिलाफ जमकर गुस्सा फूटा। मौके पर मौजूद कुछ लोगों ने कंपनी कार्यालय में लगे ताला को तोड़कर कार्यालय में रखे सामान उठा ले गए। वहीं कुछ लोगों ने कार्यालय में पथराव कर शीशे को नुकसान पहुंचाया है।

घटना की खबर पर पुलिस भी मौके पर पहुंची और उन्होने महिलाओं व उनके परिवार के सदस्यों को समझा-बुझाकर शांत करवाया। बाद में पीडि़त महिलाओं ने रैली की शक्ल में कोतवाली थाना पहुंचकर कंपनी संचालक के खिलाफ शिकायत की है। फिलहाल फरार कंपनी संचालक सानू कुमार का का कुछ पता नहीं चल पाया है। उसे बिहार का निवासी बताया जा रहा है। इसके अलावा पीडि़त महिलाएं कंपनी संचालक के संबंध में कुछ भी जानकारी देने में असमर्थ है। पिछले 3 माह से होमग्रोन कॉर्पोरेशन का संचालन किया जा रहा था। इसके लिए कंपनी संचालक द्वारा 15-20 की संख्या में कार्यालय में कर्मचारी भी रखे गए थे। ये कर्मचारी कार्यालय में महिलाओं को माला पिरोने की स्कीम की जानकारी देकर कंपनी में जोड़ते थे। कंपनी से जुडऩे वाली महिला सदस्यों द्वारा नए सदस्य बनाए जाने पर उन्हे 4सौ रुपए का कमीशन भी दिया जाता था। जिससे महिलाओं में कंपनी की स्कीम को लेकर खासा उत्साह था और लगातार कंपनी से महिलाएं जुड़ रही थी। इस कंपनी से खासकर आर्थिक रुप से मध्यम व निम्न वर्ग की महिलाएं जुड़ी हुई है। होमग्रोन कॉर्पोरेशन से दुर्ग शहर की करीब हजार से अधिक की संख्या में महिलाएं जुड़ी थी। इस कंपनी से एक ही परिवार के 4-5 महिला सदस्यों के जुड़े होने का भी पता चला है। कंपनी द्वारा दुर्ग के अलावा भिलाई में भी कार्यालय खोला गया था। जिसके माध्यम से कंपनी महिलाओं को अपनी ठगी का शिकार बना रहा था। घटना की जानकारी मिलने पर जिला भाजपा महामंत्री ललित चंद्राकर, जिला भाजयुमों अध्यक्ष नितेश साहू, राहुल पाटिल, रजा खोखर, रामत्रिलोचन तिवारी मौके पर पहुंचे और घटना की निंदा करते हुए महिलाओं को न्याय दिलाने पुलिस सेे मांग की है।

mithlabra
Author: mithlabra

Leave a Comment